Skip to main content

Posts

Showing posts with the label जाँ निसार अख़्तर

जाँ निसार अख़्तर

जाँ निसार अख़्तर
जन्म:-14 फ़रवरी 1914 निधन:-19 अगस्त 1976 जन्म स्थान:- ग्वालियर, मध्य प्रदेश, भारत कुछ प्रमुखकृतियाँ:-  नज़रे-बुताँ, सलासिल, जाँविदां, घर आँगन, ख़ाके-दिल, तनहा सफ़र की रात, जाँ निसार अख़्तर-एक जवान मौत
आवाज़ दो हम एक हैं

एक है अपना जहाँ, एक है अपना वतन अपने सभी सुख एक हैं, अपने सभी ग़म एक हैं आवाज़ दो हम एक हैं.
ये वक़्त खोने का नहीं, ये वक़्त सोने का नहीं जागो वतन खतरे में है, सारा चमन खतरे में है फूलों के चेहरे ज़र्द हैं, ज़ुल्फ़ें फ़ज़ा की गर्द हैं उमड़ा हुआ तूफ़ान है, नरगे में हिन्दोस्तान है दुश्मन से नफ़रत फ़र्ज़ है, घर की हिफ़ाज़त फ़र्ज़ है बेदार हो,