Skip to main content

हमारे रचनाकार : जगदीश पंकज

पूरानाम : जगदीश प्रसाद जैन्ड
जन्म : 10 दिसम्बर 1952
स्थान : पिलखुवा, जिला-गाज़ियाबाद (उ.प्र .)  
शिक्षा : बी .एस सी .
विभिन्नपत्र पत्रिकाओं में गीत एवं कवितायें प्रकाशित, एक नवगीत संग्रह प्रकाशनाधीन
सम्प्रति : सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया में वरिष्ठ प्रबन्धक के पद से सेवा निवृत्त एवं स्वतंत्रलेखन
संपर्क : सोमसदन ,5/41 सेक्टर -2 ,राजेन्द्रनगर,साहिबाबाद ,गाज़ियाबाद-201005 .
मो. : 08860446774
ईमेल : jpjend@yahoo.co.in

1. अपने को ही पाती लिखकर
अपने को ही पाती लिखकर
खुद ही बैठे बाँच रहे हैं
अपने-अपने रंगमंच पर
कठपुतली से नाच रहे हैं

सम्बोधन के शब्द स्वयं ही
हमने अपने लिए गढ़े हैं
आत्ममुग्धता में औरोंके
पत्र अभी तक नहीं पढ़े हैं

अपने ही सब प्रश्न-पत्र हैं
उत्तर भी खुद जांच रहे हैं

सदियों से संतापित भी तो
कुछ अपने ही आस-पास हैं
उनके भी अपने अनुभव हैं
वे भी कुछ तो आम-ख़ास हैं

उनको मिले हाशिए, उनके
हिस्से टूटे कांच रहे हैं

मात्र आंकड़ों में अंकित है
अपनी-अपनी रामकहानी
पिसते रहे उम्रभर अब तक
पाने को कुछ दाना-पानी

कुछ कर्मों के, कुछ जन्मों के
बंधन झूठी-सांच रहे हैं


2. क्या बोयाक्या काट रहे हैं

क्या बोया, क्या काट रहे हैं
अपनी क्यारी में
हम हैं किस अज्ञात
भविष्य की तैयारी में

किस पीढ़ी ने खाद-बीज ये
कैसे डाल दिए
अंकुर भी आये तो भारी
खर-पतवार लिए
जैसी भी है फसल काटनी
है लाचारी में
भागम-भाग लगी है जैसे
कोई लूट मची
संतों की करनी-कथनी भी
शक से नहीं बची
राह दिखाने वाले फेंकें
घी चिंगारी में

अपने ही घर में चोरी करके
क्यों रीझ रहे
चेहरा दर्पण में देखा
कालिख से खीझ रहे
जो विकल्प हैं उन्हें सभालें
कल की बारी में
3. फिर सभी सामान्य होते जा रहे हैं

फिर सभी सामान्य
होते जा रहे हैं
भूलकर अब
हादसों को लोग

मर रही संवेदना का
शव-परीक्षण
कर सकें तो
जानकारी ही मिलेगी
सोच के हम किस
धरातल पर खड़े हैं
जान पायें चेतना
कुछ तो हिलेगी
चीख चौंकाती नहीं
मुँह फेर चलते
देखकर अब
बेबसों को लोग

मुक्त बाजारीकरण की
दौड़ में अब
वेदना भी, जिंस
बनती जा रही है
कौन प्रायोजक मिलेगा
सांत्वना को
नग्नता टीआरपी
जब पा रही है
घाव पर मरहम लगाना
भूलकर अब
घिर रहे क्यों
ढ़ाढसों में लोग……              

4. हताशा हँस रही

हताशा हँस रही, चिपकी
अवश, निरूपाय
चेहरों पर.

विकल्पों में कहाँ खोजें
कोई अनुकूल-सी सीढ़ी
व्यस्त अवसाद, चिन्ता में
घिरी जब, आज की पीढ़ी

महत्वाकांक्षा आहत
विवश, अनजान
लहरों पर.

विमर्शों में नहीं कोई
कहीं मुद्दा कभी बनता
विरोधाभास में जीती
विफल, असहाय-सी जनता

असहमत मूक निर्वाचन
खड़ा है व्यर्थ
पहरों पर…….

5. रिसता हुआ हमारा जीवन

धीरे-धीरे संचित होकर
जल्दी-जल्दी रीत रहा है
रिसता हुआ हमारा जीवन
कुछ ऐसे ही बीत रहा है

निष्ठाओं पर प्रश्न-चिन्ह हैं
व्यवहारों पर टोका-टाकी
अंकगणित से जुड़ी जिन्दगी
जोड़-घटाकर क्या है बाकी

हासिल कितना, किसके हिस्से
कौन हारकर जीत रहा है
रिसता हुआ हमारा जीवन
कुछ ऐसे ही बीत रहा है
               
विश्व-ग्राम के सपने लेकर
हम जंजीरों में जकड़े हैं
जंगल के विश्वासों को भी
अंधे बन, कसकर पकडे हैं

अपने घर का मुक्त-प्रबंधन
आशा के विपरीत रहा है
रिसता हुआ हमारा जीवन
कुछ ऐसे ही बीत रहा है..

('शब्द व्यंजना' पत्रिका के प्रवेशांक (मई -२०१४) में सम्मिलित ये नवगीत शब्द व्यंजना की वेबसाइट पर भी पढ़े जा सकते हैं http://shabdvyanjana.com/AuthorPost.aspx?id=1006&rid=10
 

Comments

Popular posts from this blog

भाषाओं का वैश्विक परिदृश्य और हिन्दी

- डा0 गोपाल नारायन श्रीवास्तव
जब हम भाषा के वैश्विक परिदृश्य की बात करते हैं तो सबसे पहले हमें भाषा विशेष की क्षमताओं के बारे में आश्वस्त होना पड़ता हैI वैश्विक धरातल पर कोई भी भाषा यूँ ही अनायास उभर कर अपना वर्चस्व नहीं बना सकतीI इसके पीछे भाषा की सनातनता का भी महत्वपूर्ण हाथ हैI स्वतंत्र भारत में जब पह्ला लोक-सभा निर्वाचन हुआ था उस समय हिन्दी भाषा विश्व में पाँचवे पायदान पर थीI आज उसे प्रथम स्थान का दावेदार माना जा रहा हैI अन्य बातें जिनकी चर्चा अभी आगे करेंगे उन्हें यदि छोड़  भी दें तो भाषा की वैश्विकता के दो प्रमुख आधार हैंI प्रथम यह कि आलोच्य भाषा कितने बड़े भू-भाग में बोली जा रही है और उस पर कितना साहित्य रचा जा रहा हैI दूसरी अहम् बात यह है कि वह भाषा कितने लोगों द्वारा व्यवहृत हो रही हैI इस पर विचार करने से पूर्व किसी भाषा का वैश्विक परिदृश्य क्या होना चाहिए और एतदर्थ किसी भाषा विशेष से क्या-क्या अपेक्षाएँ हैं, इस पर चर्चा होना प्रासंगिक एवं समीचीन हैI
      विश्व स्तर पर किसी भाषा के प्रख्यापित होने के लिए यह नितांत आवश्यक है कि उसका एक विशाल और प्रबुद्ध काव्य-शास्त्र हो,उसमें लेख…

कहानी - ईदगाह

मुंशी प्रेमचंद
रमज़ान के पूरे तीस रोज़ों के बाद ईद आयी है। कितना मनोहर, कितना सुहावना प्रभाव है। वृक्षों पर अजीब हरियाली है, खेतों में कुछ अजीब रौनक है, आसमान पर कुछ अजीब लालिमा है। आज का सूर्य देखो, कितना प्यारा, कितना शीतल है, यानी संसार को ईद की बधाई दे रहा है। गाँव में कितनी हलचल है। ईदगाह जाने की तैयारियाँ हो रही हैं। किसी के कुरते में बटन नहीं है, पड़ोस के घर में सुई-धागा लेने दौड़ा जा रहा है। किसी के जूते कड़े हो गए हैं, उनमें तेल डालने के लिए तेली के घर पर भागा जाता है। जल्दी-जल्दी बैलों को सानी-पानी दे दें। ईदगाह से लौटते-लौटते दोपहर हो जाएगी। तीन कोस का पैदल रास्ता, फिर सैकड़ों आदमियों से मिलना-भेंटना, दोपहर के पहले लौटना असम्भव है। लड़के सबसे ज़्यादा प्रसन्न हैं। किसी ने एक रोज़ा रखा है, वह भी दोपहर तक, किसी ने वह भी नहीं, लेकिन ईदगाह जाने की खुशी उनके हिस्से की चीज़ है। रोज़े बड़े-बूढ़ों के लिए होंगे। इनके लिए तो ईद है। रोज ईद का नाम रटते थे, आज वह आ गई। अब जल्दी पड़ी है कि लोग ईदगाह क्यों नहीं चलते। इन्हें गृहस्थी की चिंताओं से क्या प्रयोजन! सेवइयों के लिए दूध ओर शक्कर घर म…

ग़ज़ल में मात्राओं की गणना:

संदीप द्विवेदी (वाहिद काशीवासी)
आज के समय में हमारे देश में काव्य की अनेक विधाएँ प्रचलित हैं जो हमें साहित्य के रस से सिक्त कर आनंदित करती हैं। इनमें कुछ इसी देश की उपज हैं तो कुछ परदेश से भी आई हैं और यहाँ आकर यहाँ के रंग-ढंग में ढल गई हैं। ऐसी ही एक अत्यंत लोकप्रिय काव्य विधा है ग़ज़ल। हमारे समूह में ग़ज़ल की मात्राओं की गणना पर चर्चा करने के लिए मुझे आमंत्रित किया गया है अतः मैं बिना किसी लाग-लपेट के अपनी बात आरंभ करता हूँ।
ग़ज़लें कहने के लिए कुछ निश्चित लयों अथवा धुनों का प्रयोग किया जाता है जिन्हें 'बह्र' के नाम से जाना जाता है। अगर आपका लिखा या कहा हुआ काव्य बह्र में बद्ध नहीं है तो उसे ग़ज़ल नहीं माना जा सकता। बह्र में ग़ज़ल कहने के लिए हमें मात्राओं की गणना का ज्ञान होना आवश्यक है जिसे 'तक़्तीअ' कहा जाता है। अगर हम तक़्तीअ करना सीख लेते हैं तो फिर बह्र भी धीरे-धीरे सध जाती है। हिंदी छंदों के विपरीत, जहाँ वर्णिक छंदों (ग़ज़ल भी वर्णिक छंद ही है) गणों के निश्चित क्रम निर्धारित होते हैं और हर मात्रा का अपने स्थान पर होना अनिवार्य होता है, ग़ज़ल की बह्र में मात्राओं की गणना में छूट…